ANNOUNCEMENTS



Wednesday, March 30, 2016

विश्वास

"विश्वास केवल सत्य में, से, के लिए होता है.  अस्तित्व ही परम सत्य है, जीवन ज्ञान ही परम ज्ञान है, और मानवीयता पूर्ण आचरण ही परम आचरण है.  विश्वास सहज गति स्वरूप में (या कार्य-व्यव्हार स्वरूप में) सम्बन्धों की पहचान, मूल्यों का निर्वाह, मूल्याँकन, उभय तृप्ति व संतुलन ही है.  सम्पूर्ण सम्बन्धों में विश्वास ही वर्तमान में सुख पाने की विधि है.  निरन्तर समझदारी सहित आवश्यकताओं, उपकारों, दायित्वों में भागीदारी निर्वाह करने के क्रम में विश्वास प्रमाणित होना पाया जाता है, तथा इसी से मानव सुखी होता है.  यह नित्य उत्सव के रूप में स्पष्ट है.  ऐसे बहने वाले विश्वास का एक स्वाभाविक वातावरण अथवा प्रभाव बनना सहज है.  फलतः तन्मयता प्रमाणित होना पाया जाता है." - श्री ए नागराज

"Trust happens only in, from and for truth.  Existence itself is the ultimate truth, knowledge of jeevan itself is the ultimate knowledge, and humane conduct itself is the ultimate conduct.  Practice (in work and behaviour) of Trust is in the form of (human being's) recognition of relationships, flow of values therein, valuation, mutual fulfillment and (thereby) balanced living.  Trust alone is the way of finding presence of happiness in all relationships.  The evidence of trust is found in the course of working for physical needs, performing deeds of beneficence, and while fulfilling one's obligations - and that is where human being's happiness is.  The presence of trust (fearlessness in society) is in the form of eternal celebration.  The flow of trust naturally builds its environment and influence, which results in evidence of devotional immersion." - Shree A. Nagraj

No comments: