ANNOUNCEMENTS



Saturday, March 12, 2016

उत्पादित वस्तु का सदुपयोग

"शिष्ट मूल्य में उत्पादन मूल्य समर्पित होने के लिए बाध्य है, क्योंकि शिष्ट मूल्य के अभाव में उत्पादित वस्तु का संयमन एवं सदुपयोग सिद्ध नहीं होता।  सामाजिक मूल्य के संयोग में ही उत्पादित वस्तु का सदुपयोग सिद्ध है." - श्री ए नागराज

"The Production Values (Value generated from production activities) are necessarily meant to be devoted in Behavioral Values (Values that fulfill Universal Purpose in Human Relationships), because Restraintful and Righteous Use of Production cannot be accomplished in the absence of Values in Behaviour.  Righteous Use of Production is only when it is aligned with (Universal) Values of Soceity." - Shree A. Nagraj

No comments: