ANNOUNCEMENTS



Wednesday, February 17, 2016

क्षमा

"क्षमा ::- अन्य के विकास के लिए की जाने वाली सहायता के समय उसके ह्रास पक्ष से अप्रभावित रहने की क्षमता।

अनावश्यकता के प्रति उदासीन अथवा विस्मरण

क्षमा करने वाला मानव भ्रमित मानव की गलतियों से अप्रभावित रहने पर ही क्षमा कर सकेगा।  गलतियों से प्रभावित होने पर क्षमा के स्थान पर प्रतिक्रिया होगी - जिससे घृणा, क्रोध, द्वेष होगा।" - श्री ए नागराज

"Forgiveness:: -   The capacity of being unaffected from one's help towards other's progress getting wasted.

Being unconcerned and forgetful towards unnecessary.

The one who forgives would be able to forgive only when he/she is unaffected from the mistakes of one who is in illusion.  If one becomes affected from mistakes then in place of forgiving there would be reaction - which would result in hatred, anger and malice." - Shree A. Nagraj.

No comments: