ANNOUNCEMENTS



Wednesday, April 13, 2016

समुदायवाद, व्यक्तिवाद की परेशानी


व्यक्तिवाद विशेषतया पराधीनता को स्वीकारे रहता है। जबकि हर नर-नारी समानता सहित पहचान प्रस्तुत करना चाहता है साथ में सुखी रहने की आवश्यकता बनी रहती है। सभी जीव संसार अपने-अपने प्रजाति रूपी समुदायों के रूप में जीता हुआ देखने को मिलता है। सभी मानव एक ही प्रजाति के होते हुए परस्परता में निश्चित पहचान सहित जीना स्पष्ट नहीं हो पाया इसका कारण व्यक्तिवाद व समुदायवाद ही है।  समुदायवाद, व्यक्तिवाद की परेशानी ही विशेषतः दासता है।  दासता मानव को स्वीकार नहीं है। विशेषता एक मान्यता है। मान्यतायें प्रमाण नहीं हो पाती। माने हुए को जानना आवश्यक है।  जाने हुये को मानना, माने हुये को जानना ही मानव की आवश्यकता है।  यही समाधान व प्रमाण सूत्र है।  जानने-मानने की सम्पूर्ण वस्तु सह-अस्तित्व रूपी अस्तित्व ही है।


- मानवीय आचरण सूत्र, अध्याय - १ से।


Individualism primarily assumes external dependence.  While in reality, each person wants to be identified as 'one among equals' along with their basic need of being happy.  All animal world is seen to be living in the form of communities of their own kind.  All human beings, despite being of the same specie (kind), could not clearly demonstrate living with definite identity in their mutuality, and its root cause is individualism and communal-ism only.  The main difficulty of individualism and communal-ism is their dependence on exclusivity.  Dependence is not acceptable to human being.  Exclusivity is a belief.  Beliefs (assumptions) cannot become evidences (of knowing Truth).  One needs to know what one assumes to be True.  Believing in one's Knowledge (bringing it into Practice) and knowing (the Truth of) one's beliefs itself is human need.  This is the key for becoming resolved and producing evidences.  Entire object of knowing and believing is Existence in the form of Coexistence.   

- From Chapter-1 of Manviya Acharan Sutra.

No comments: