ANNOUNCEMENTS



Monday, January 25, 2016

The Acts of Worship

"मूल प्रवृत्तियों का परिमार्जन ही मानव जीवन का कार्यक्रम है.

उपासना ही मूल प्रवृत्तियों का परिमार्जन एवं परिवर्तन प्रक्रिया है.

उपायों सहित लक्ष्य पूर्ति के लिए किया गया क्रियाकलाप ही उपासना है." - श्री ए नागराज


"Human Life is only for refining basic tendencies of mind.

Worship alone is the way for refining and changing the basic tendencies of mind.

 The activities of implementing solutions to fulfill human purpose alone are The Acts of Worship." - Shree A. Nagraj

No comments: